Tarasti Hai Nigahen lyrics in hindi - Asim azhar

Tarasti Hai Nigahen lyrics

Song Title : Tarasti Hai Nigahen
Singer : Asim Azhar & Zenab Fatimah Sultan
Music : Azaan Sami Khan & Saad Sultan
Lyrics : Shakeel Sohail

Tarasti Hai Nigahen lyrics in hindi

जाए कहाँ है वफ़ा यहां राहेंगाण
साहिबन जो लगा था कभी
वः फरेब-इ-नज़र आसमान
आब शराफत नहीं ये रिवायत नहीं बाकी
हो किसी की कदर ऐसी आदत नहीं बाकी

कईसे नहीं कहीं कोई है
हळात फेहमी जो बानी है
ख्या नहीं अपनापाण
एहसास की राह चुनी है

तरासती हैं निग़ाहें मेरि
ताक्ति हैं राहें टेरी
सण कभी ाहें मेरी
येह कैसे मैं बताउँ
तूझे सोती नहीं आँखें मेरी
कात’तो नहीं रातें मेरी

कय ख्वाइशें पे खाबों की बरिशें
अज़ाबों की कहाँ कहीं गायी
धूप मेरे हिस्से के सवाबों की
की दर्द भरे नालों पै
कार करम सवालों क
कयूं सितम है तेरा तेरे चाहने वालों पी

तरासती हैं निग़ाहें मेरि
ताक्ति हैं राहें तिरि
चाहिये पनाह टेरी
येह कैसे मैं बताउँ
तूझे सोती नहीं आँखें मेरी
कात’तो नहीं रातें मेरी

वाल नहीं जात
पल नहीं जात
ड़ूबती हैं साँसे
दिल ऐसे भर जात
जाते हुवे लमहों को
पास बुलाता है
तोड़ि सी भी दूरि डिल
सेह नहीं पाटा है

साब है दिखावे
झूठे बेहलावे
एक ही कदम लाए
१००-१०० पछतावे


 

बेखबबर था ज़ारा
पर न था बेवफा यारा

सच था या ग़लत फेहमी
पर खाब नहीं जुड़ पात
ड़ुख़ देते, जान लेते है
टर्स ज़रा नहीं खात

सच था या ग़लत फेहमी
पर खाब नहीं जुड़ पात
ड़ुख़ देते, जान लेते है
टर्स ज़रा नहीं खात

तरासती हैं निग़ाहें मेरि
ताक्ति हैं राहें तिरि
चाहिये पनाह टेरी
येह कैसे मैं बताउँ
तूझे सोती नहीं आँखें मेरी
कात’तो नहीं रातें मेरी

कय ख्वाइशें पे खाबों की बरिशें
अज़ाबों की कहाँ कहीं गायी
धूप मेरे हिस्से के सवाबों की
की दर्द भरे नालों पै
कार करम सवालों क
कयूं सितम है तेरा तेरे चाहने वालों पै

कईसे नहीं कहीं कोई है
हळात फेहमी जो बानी है
ख्या नहीं अपनापाण
एहसास की राह चुनी है

कईसे नहीं कहीं कोई है
हळात फेहमी जो बानी है
ख्या नहीं अपनापाण
एहसास की राह चुनी है

कईसे नहीं कहीं कोई है
हळात फेहमी जो बानी है
ख्या नहीं अपनापाण
एहसास की राह चुनी है

कईसे नहीं कहीं कोई है
हळात फेहमी जो बानी है 

Tarasti Hai Nigahen lyrics

Jaaye kahaan hai wafa yahaan raahegaan
Saahiban jo laga tha kabhi
Woh fareb-e-nazar aasmaan
Ab sharafat nahi ye rivayat nahi baaqi
Ho kisi ki kadar aisi aadat nahi baaqi

Aisa nahi kahin koi hai
Ghalat fehmi jo bani hai
Khoya nahi apnaapan
Ehsaas ki raah chuni hai

Tarasti hain nigaahein meri
Takti hain raahein teri
Sunn kabhi aahein meri
Yeh kaise main bataaun
Tujhe soti nahin aankhein meri
Kat’ti nahin raatein meri

Ki Khawaaishein pe khabon ki barishein
Azaabon ki kahaan kahin gayi
Dhoop mere hisse ke sawabon ki
Ki dard bhare naalon pe
Kar karam sawalon ke
Kyun sitam hai tera tere chaahne walon pe

Tarasti hain nigaahein meri
Takti hain raahein teri
Chaahiye panaah teri
Yeh kaise main bataaun
Tujhe soti nahin aankhein meri
Kat’ti nahin raatein meri

Dhal nahi jaate
Pal nahi jaate
Doobti hain saansein
Dil aise bhar jaate
Jaate huve lamhon ko
Paas bulaata hai
Thodi si bhi doori dil
Seh nahi paata hai

Sab hai dikhawe
Jhoothe behlaave
Ek hi kadam laaye
100-100 pachhtaave


 

Bekhabbar tha zara
Par na tha bewafa yaara

Sach thha ya ghalat fehmi
Par khaab nahi jud paate
Dukh dete, jaan lete hain
Taras zara nahi khaate

Sach thha ya ghalat fehmi
Par khaab nahi jud paate
Dukh dete, jaan lete hain
Taras zara nahi khaate

Tarasti hain nigaahein meri
Takti hain raahein teri
Chaahiye panaah teri
Yeh kaise main bataaun
Tujhe soti nahin aankhein meri
Kat’ti nahin raatein meri

Ki Khawaaishein pe khabon ki barishein
Azaabon ki kahaan kahin gayi
Dhoop mere hisse ke sawabon ki
Ki dard bhare naalon pe
Kar karam sawalon ke
Kyun sitam hai tera tere chaahne walon pe

Aisa nahi kahin koi hai
Ghalat fehmi jo bani hai
Khoya nahi apnaapan
Ehsaas ki raah chuni hai

Aisa nahi kahin koi hai
Ghalat fehmi jo bani hai
Khoya nahi apnaapan
Ehsaas ki raah chuni hai

Aisa nahi kahin koi hai
Ghalat fehmi jo bani hai
Khoya nahi apnaapan
Ehsaas ki raah chuni hai

Aisa nahi kahin koi hai
Ghalat fehmi jo bani hai

Other post: 

Comments